लद्दाख के ​​​​​​​स्पांगुर गैप में चीन ने टैंक और तोपें तैनात कीं, दोनों देशों के सैनिक आमने-सामने; ​​​​​​​लगातार छठवें दिन बैठक बेनतीजा रही

[ad_1]

  • Hindi News
  • National
  • India China Troops Within Shooting Range At Spanggur Gap, Talks Remain Inconclusive

नई दिल्लीएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक
indian laddakh 1599929473

भारत और चीन के बीच लद्दाख में मई से तनाव बना हुआ है। 29-30 अगस्त की रात को चीन के 500 सैनिकों ने पैंगॉन्ग झील के दक्षिणी छोर की पहाड़ी पर कब्जे की कोशिश की थी, जिसे नाकाम कर दिया।

भारत-चीन सीमा पर हालात नाजुक बन गए हैं। चीन ने पूर्वी लद्दाख के पैंगॉन्ग त्सो के दक्षिणी इलाके स्पांगुर गैप में भारी संख्या में सैनिक, टैंक और तोपों को तैनात कर दिया है। यह इलाका भारतीय सेना की राइफल रेंज से काफी करीब है। इसके बाद भारतीय सेना अलर्ट पर है। वहीं, दोनों देशों के बीच लगातार छठवें दिन मिलिट्री लेवल की बातचीत बेनतीजा रही।

सूत्रों के मुताबिक, पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) ने गुरुंग हिल और मगर हिल के बीच स्पांगुर गैप में यह तैनाती 30 अगस्त के बाद से शुरू कर दी थी, जब भारत ने चुशूल के पास पैंगॉन्ग त्सो के दक्षिणी किनारे की ऊंचाई वाले इलाकों पर कब्जा कर लिया था।

सरकार के सूत्रों के हवाले से न्यूज एजेंसी ने बताया कि भारतीय सेना ने भी इस इलाके में टैंक, तोपों और जवानों की तैनाती बढ़ा दी है। दोनों देशों के सैनिक आमने-सामने हैं। सूत्रों के मुताबिक, चीन ने अपने मिलिशिया स्क्वॉड को यहां तैनात किया है और उसे भारतीय सेना को इन ऊंचाई वाले इलाकों से हटाने या पीछे करने की जिम्मेदारी सौंपी है। यह स्क्वॉड पीएलए की रिजर्व फोर्स है। इसमें ज्यादातर जवान पर्वतारोही, मुक्केबाज और स्थानीय फाइट क्लब के मेंबर्स होते हैं। ये ऊंचाई वाली जगहों पर पीएलए को मिलिट्री ऑपरेशन में मदद करते हैं।

4 घंटे तक चली मिलिट्री लेवल की बातचीत

  • पूर्वी लद्दाख में जारी तनाव कम करने के लिए भारत-चीन के बीच शनिवार को लगातार छठवें दिन मिलिट्री लेवल की बातचीत हुई। हालांकि, यह बेनतीजा रही। बातचीत में ऐसी जगहों से सेना को पीछे हटाने पर चर्चा हुई, जहां दोनों देशों की सेना आमने-सामने हैं। यह बैठक चुशूल में सुबह 11 बजे से दोपहर 3 बजे तक चली।
  • बैठकों का यह सिलसिला 7 सितंबर से जारी हैं। बैठकों का दौर तब शुरू हुआ, जब चीन ने 29 और 30 अगस्त की मध्यरात्रि को भारतीय इलाके पर कब्जे की नाकाम कोशिश की थी।
  • दोनों देशों ने अब अगले कुछ दिनों के अंदर अपने छठे दौर की टॉप कमांडर्स की मीटिंग का फैसला किया है। कॉर्प्स कमांडर-14 से लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह और दक्षिण शिनजियांग मिलिट्री डिस्ट्रिक्ट चीफ मेजर जनरल लियू लिन के बीच दो अगस्त के बाद से मीटिंग हो सकती है।

भारत-चीन से जुड़ी ये खबरें भी पढ़ सकते हैं…

1. जिस जगह भारत-चीन के सैनिक कुछ मीटर की दूरी पर हैं, वहीं मिलिट्री लेवल की मीटिंग हुई; दिल्ली में राजनाथ, डोभाल और जनरल रावत की मुलाकात

2. रॉड, भाले और धारदार हथियार भी लेकर आ रहे थे चीनी सैनिक, भारतीय सेना ने अपनी पोस्ट की ओर बढ़ने से रोका तो उन्होंने फायरिंग की

0

[ad_2]
Source link

Leave a Reply