पानीपत में बड़ा हादसा, बच्चों समेत छह यमुना में डूबे, तीन की मौत, बाकी की तलाश जारी

[ad_1]

पानीपत में नदी में डूबे छह लोग।
– फोटो : अमर उजाला

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर


कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹365 & To get 20% off, use code: 20OFF

ख़बर सुनें

यमुना नदी से सटे गांव जलमाना में मंगलवार की सुबह एक ही परिवार के तीन मासूमों समेत छह लोग नदी में नहाते समय डूब गए। 15 प्राइवेट गोताखोरों ने पांच घंटे की मशक्कत के बाद महिला, युवक और युवती का शव बरामद कर लिया। वहीं तीन मासूमों का अभी तक कुछ पता नहीं चला। गोताखोरों की टीम उन्हें खोजने में जुटी है।

गांव जलमाना से सटी यमुना नदी के किनारे घूमने के लिए मंगलवार की सुबह छह बजे सुशील, उसकी पत्नी सोनिया (32), बेट सागर (15), बेटी पायल (12) और परिवार से ही सरिता (18), साली का बेटा बादल (18) निवासी चंदौली और गर्व (16) निवासी करहंस गए थे। इस दौरान बच्चे नदी में नहाने की जिद करने लगे। इस पर सुशील यमुना किनारे कुछ दूरी पर बैठ गया। 

haryana2 5f60ec57203ac

पत्नी बच्चों और रिश्तेदारों को लेकर नदी में नहाने चली गई। इस दौरान बच्चे गहरे पानी में चले गए। सोनिया ने बच्चों को रोका लेकिन वे आगे बढ़ते गए। आगे यमुना के अंदर गहरा कुंड था, जिसमें सरिता डूबने लगी। बच्चे और रिश्तेदार उसे बचाने लिए गए, जिस पर वे भी डूबने लगे। इस दौरान सुशील बचाने के लिए शोर मचाते हुए बेहोश हो गया। 

बच्चों की चीखें सुनकर कुछ दूरी पर खेतों में काम कर रहे किसान और पशुपालकों ने नदी में छलांग लगा दी लेकिन तब तक सभी गहरे कुंड में समा गए थे। गांव जलमाना, अधमी और मिर्जापुर के किसानों और गोताखोरों ने तलाश शुरू की। बापौली थाना पुलिस और नायब तहसीलदार नरेश कौशल राजस्व टीम के साथ मौके पर पहुंच गए।

कुछ प्राइवेट गोताखोरों को बुलाकर तलाशी अभियान शुरू कराया। सुबह करीब साढ़े 11 बजे डूबने की जगह से दो किलोमीटर दूर सोनिया, सरिता और बादल निवासी चंदौली के शव मिल गए। तीन बच्चों की तलाश में गोताखोरों की टीम जुटी है। सुशील के परिवार में कोहराम मच गया है। पुलिस ने शव को परिजनों की सुपुर्द कर दिया। 

panipat2 5f60ec060b825

                                      रोते-बिलखते परिजन और शवगृह के बाहर जुटे लोग।

घटनास्थल पर पहुंचे उपायुक्त

घटनास्थल पर डीसी धर्मेंद्र सिंह, डीएसपी प्रदीप कुमार समालखा, डीआरओ चंद्रमोहन, नायब तहसीलदार नरेश कौशल घटनास्थल पर पहुंचे और गांव मिर्जापुर के यमुना घाट पर तलाश कर रहे इंजन बोट मशीन व गोताखोरों को जल्द से जल्द तलाश करने के लिए आदेश दिया। परिवार के लोगों को आश्वासन दिया कि और भी गोताखोरों को लगाया जाएगा।

यमुना नदी से सटे गांव जलमाना में मंगलवार की सुबह एक ही परिवार के तीन मासूमों समेत छह लोग नदी में नहाते समय डूब गए। 15 प्राइवेट गोताखोरों ने पांच घंटे की मशक्कत के बाद महिला, युवक और युवती का शव बरामद कर लिया। वहीं तीन मासूमों का अभी तक कुछ पता नहीं चला। गोताखोरों की टीम उन्हें खोजने में जुटी है।

गांव जलमाना से सटी यमुना नदी के किनारे घूमने के लिए मंगलवार की सुबह छह बजे सुशील, उसकी पत्नी सोनिया (32), बेट सागर (15), बेटी पायल (12) और परिवार से ही सरिता (18), साली का बेटा बादल (18) निवासी चंदौली और गर्व (16) निवासी करहंस गए थे। इस दौरान बच्चे नदी में नहाने की जिद करने लगे। इस पर सुशील यमुना किनारे कुछ दूरी पर बैठ गया। 

haryana2 5f60ec57203ac

पत्नी बच्चों और रिश्तेदारों को लेकर नदी में नहाने चली गई। इस दौरान बच्चे गहरे पानी में चले गए। सोनिया ने बच्चों को रोका लेकिन वे आगे बढ़ते गए। आगे यमुना के अंदर गहरा कुंड था, जिसमें सरिता डूबने लगी। बच्चे और रिश्तेदार उसे बचाने लिए गए, जिस पर वे भी डूबने लगे। इस दौरान सुशील बचाने के लिए शोर मचाते हुए बेहोश हो गया। 

[ad_2]
Source link

Leave a Reply