hideout 1601224010

जम्मू कश्मीर पुलिस के डीजीपी का दावा- सुरक्षाबलों से बचने के लिए टॉयलेट टैंक के नीचे बंकर्स बनाकर छिप रहे आतंकी

[ad_1]

  • Hindi News
  • National
  • Jammu Kashmir Police’s DGP Claims Terrorists Hiding Under Toilet Tanks To Avoid Security Forces

नई दिल्ली3 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
hideout 1601224010

जम्मू-कश्मीर में सेना और सुरक्षाबलों ने कई आतंकी संगठनों के कमांडर्स को मुठभेड़ में मार गिराया है। इससे बचने के लिए अब आतंकी बंकरों में छुप रहे हैं। -फाइल फोटो

  • सुरक्षाबलों और पुलिस का मानना है कि बढ़ते दबाव को देखते हुए आतंकी अब लुकाछिपी कर रहे हैं
  • सुरक्षाबल आतंकियों को मुठभेड़ में ढेर कर रहे हैं, ऐेसे में आतंकी स्थानीय लोगों के साथ रहने से बच रहे हैं

जम्मू-कश्मीर में सुरक्षाबल से बचने के लिए आतंकी तरह-तरह की तरकीब निकाल रहे हैं। सुरक्षाबलों और पुलिस का मानना है कि बढ़ते दबाव को देखते हुए आतंकी अब लुकाछिपी खेल रहे हैं। स्थानीय लोगों के साथ रहने में उन्हें खतरा महसूस हो रहा है।

यही वजह है कि अब आतंकी टॉयलेट के नीचे बंकर बनाकर, किसी नाले के पास स्टील बॉक्स लगाकर या पत्थरों को काटकर बनाई गई छोटी गुफाओं में छिप रहे हैं। यह जानकारी जम्मू-कश्मीर पुलिस के महानिदेशक दिलबाग सिंह ने दी।

डीबी सिंह के मुताबिक, आतंकियों का अंडरग्राउंड बंकर और गुफाओं में छिपना नई बात नहीं है। हालांकि, हाल के दिनों में दक्षिण कश्मीर में हमें ऐसे कई वाकये देखने को मिले हैं। एक मामले में तो आतंकी टॉयलेट के सेप्टिक टैंक के अंदर छिपे हुए थे।

वट्रीग्राम में सेप्टिक टैंक में छिपे थे आतंकी

इस साल मार्च में अनंतनाग जिले के वट्रीग्राम में आतंकी सेप्टिक टैंक में छिपे मिले थे। इसका खुलासा करने के ऑपरेशन में शामिल एक अफसर ने बताया कि एक घर में आतंकियों के छिपे होने की जानकारी मिली थी। वहां पहुंची सुरक्षाबलों की टीम ने देखा कि घर के टायलेट में टाइल्स टूटी हैं और वहां व्हाइट सीमेंट लगा है।

टॉयलेट सीट पर मानव मल भी था, जिससे सुरक्षाबलों का ध्यान भटकाया जा सके। हालांकि, जब सुरक्षाबलों ने शक के आधार पर खुदाई शुरू की तो आतंकियों ने फायरिंग शुरू कर दी। आखिरकार आतंकियों को पकड़ लिया गया।

कई बार सेप्टिक टैंक और बॉक्स में छिपे मिले हैं आतंकी

  • 2019 में दक्षिण कश्मीर के पुलवामा-शोपियां बॉर्डर के पास भी कुछ ऐसा ही देखने को मिला। सेना ने एक घर की करीब 6 बार तलाशी ली, लेकिन कुछ नहीं मिला। हालांकि, जब सेप्टिक टैंक की खुदाई की गई तो नीचे से दो आतंकी निकले। कई बार सेना की टीम को किचन, बेडरूम, ड्राइंग रूम में फॉल्स वॉल के पीछे भी आतंकी छिपे मिले हैं।
  • आर्मी अफसर अब आतंकियों के अंडरग्राउंड बंकर्स का पता लगाने के लिए ड्रोन्स का इस्तेमाल कर रहे हैं। इसी तरह से आतंकी जुबैर वानी की अगुआई में छिपे कुछ आतंकियों को पकड़ा गया था। इन आतंकियों ने सुरक्षाबलों से बचने के लिए जमीन के नीचे स्टील बॉक्स दबाकर, उसमें रह रहे थे। वानी को इसी साल सेना ने मुठभेड़ में मार गिराया था। इसके बाद सुरक्षाबल इस बंकर तक पहुंचे थे।
  • आतंकी राम्बी इलाके में भी छिपने के लिए इस तरह के बंकर बना रहे हैं। इस इलाके में अक्सर पानी का लेवल बढ़ने का खतरा रहता है। शोपियां के लाबीपोरा इलाके में आतंकी नदी के किनारे एक लोहे के बॉक्स में छिपे मिले थे। इन आतंकियों ने बॉक्स से एक छोटा सा पाइप बाहर निकाल दिया था, जिससे वे सांस ले सकें।

राष्ट्रीय राइफल्स ने सबसे ज्यादा आतंकियों को मारा
जम्मू-कश्मीर में सेना के राष्ट्रीय राइफल्स (आरआर) यूनिट ने सबसे ज्यादा आतंकियों को ढेर किया है। आरआर यूनिट की अगुआई करने वाले कर्नल एके सिंह के मुताबिक, हाल ही के दिनों में पुलवामा और शोपियां में भी इस तरह से छिपने के तरीके सामने आए हैं। पहले इन जगहों पर आतंकी सेब की घनी झाड़ियों और जंगल में अपना ठिकाना बनाया करते थे।

[ad_2]
Source link

Related Articles

Leave a Reply